वरोरा तहसीलदार कौटकर, कांग्रेस नेता मगरे के अवैध उत्खनन पर मेहरबान क्यू?

132

वरोरा तहसीलदार कौटकर, कांग्रेस नेता मगरे के अवैध उत्खनन पर मेहरबान क्यू?

 
क्या करोडो के खान उत्खनन से सरकार का राजस्व दुबानेका तहसीलदार कौटकर को अधिकार मिला?

चंद्रपुर/वरोरा

पुरी खबर :- वरोरा तहसीलदार कौटकर के कई कारनामे अब चर्चाओ मे रंग ला रहे है, एक ओर जहाँ सामान्य नागरिक को उनके अधिकार देने मे कसूर करनेवाले तहसीलदार गैरकानूनी काम को बडे अलग अंदाज से अंजाम देनेमे माहीर बतायें जाते है? किसी गरीब किसान के सातबारा फेरफार करने मे सालो लग जाते तो कई गैरकानूनी तरिके से एक दिन मे सातबारा फेरफार कर लाखों रुपये ऐठने के आरोप से वे हमेशा घिरे हुये है? ऐसे मे कांग्रेस नेता “प्रमोद मगरे” इन्होने मौजा फ़त्तेपुर सर्व्हे नंबर 179 इस जगह से किसी भी तरह से परमिशन नहीं होने के बावजूद अवैध उत्खनन किया है और सर्व्हे नंबर 180 मे जो उन्हें उत्खनन की परमिशन ली थी उसकी मर्यादा 2/5/2023 को खत्म हुयी है, पर स्थानीय तहसीलदार कौटकर, प्रमोद मगरे के अवैध उत्खनन पर मेहरबान क्यू है? यह सवाल खडा हुवा है. आश्चर्य की बात यह है की प्रमोद मगरे इनके अवैध उत्खनन के संदर्भ मे तहसीलदार कौटकर से शिकायत करने के बावजुद अबतक कोई कारवाई नही हुई है बल्की वे खुद ही शिकायतकर्ता को अवैध उत्खनन के सबूत मांग रहे है.!

अपार संम्पती कहा से.?

काँग्रेस नेता प्रमोद मगरे इनके जिले मे कही जगह सरकारी ठेकों के काम शुरु है. फत्तेपूर मे गिट्टी क्रशर है तो रेती मे भी वे अपनी पार्टनरशिप मे व्यस्त है, कम समय मे अपार संपत्ति के धनी हुये मगरे इनके इन्कम सोर्सेस का बौरा लिया तो ईडी के अधिकारी भी अचंभित रहेंगे ऐसी जानकारी है, पर स्थानीय तहसीलदार, उपविभागीय अधिकारी और सार्वजनिक बांधकाम विभाग के अधिकारीओ के साथ आर्थिक लेणदेणं के चलते उन्होने भ्रष्टाचार करके शेकडो करोड की प्रापार्टी बनाई हुई है? वरोरा तहसील के फ़त्तेपुर गांव के नजदिक पत्थर के खान मे उन्होंने जिस प्रकार का उत्खनन किया अगर वो नापा गया तो करीबन 200 करोड का अवैध उत्खनन होने का अंदाजा लगाया जा रहा है, पर तहसीलदार कौटकर इसपर क्यू सूद नही ले रहे? और तो और जिलाधिकारी भी तहसीलदार कौटकर को क्यू बचा रहे? इस संदर्भ मे शिकायतकर्ता तहसीलदार कौटकर की शिकायत विभागीय आयुक्त को देकर कारवाई की मांग कर रहे है.