महाराष्ट्र के ग्रामीण क्षेत्रों में 15 जून से शुरू हो सकते हैं स्कूल

105

मुंबई : प्रदेश सरकार कोरोना के कम प्रभाव वाले ग्रामीण इलाकों में 15 जून से स्कूल शुरू करने पर विचार कर रही है। प्रदेश की स्कूली शिक्षा मंत्री वर्षा गायकवाड ने यह जानकारी दी। गायकवाड ने कहा कि राज्य के ग्रामीण अंचल में ग्रीन जोन वाले क्षेत्रों में स्कूलों को शुरू करने का विचार किया जा रहा है। इसके लिए शिक्षा विभाग हर जिले में कोरोना की स्थिति को लेकर डेटा मंगा रहा है। गायकवाड ने कहा कि ग्रामीण इलाकों में जहां पर इंटरनेट की सुविधा नहीं है ऐसे जगहों पर स्कूलों को शुरू करने की कोशिश है।

विद्यार्थियों को स्कूल में सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालना करना होगा। गायकवाड ने स्पष्ट किया कि राज्य के रेड जोन में स्कूलों को शुरू नहीं किया जाएगा। उन्होंने कहा कि रेड जोन शहरी इलाकों में हैं जहां पर अभी ऑनलाइन पढ़ाई शुरू है। नए शैक्षणिक वर्ष में भी विद्यार्थी ऑनलाइन पढ़ाई का लाभ ले सकेंगे।

वहीं भाजपा के शिक्षक आघाडी के मुंबई-कोंकण के संयोजक अनिल बोरनारे ने कहा कि सरकार स्कूल शुरू करने की जल्दबाजी न करे।

उन्होंने कहा कि विद्यार्थियों का स्वास्थ्य महत्वपूर्ण है। अगर एक महीने देरी से स्कूल शुरू होगा तो भी चलेगा। इससे पहले गायकवाड ने राज्य में स्कूलों को शुरू करने के संबंध में बैठक बुलाई थी।

जिसमें लोकभारती के विधायक कपिल पाटील ने राज्य के शहरी इलाकों से पलायन करके गांवों में गए बच्चों को वहीं के स्थानीय स्कूलों में अस्थायी प्रवेश देने की मांग की थी। पाटील ने कहा कि राज्य के सुदूर इलाकों में ऑनलाइन पढ़ाई संभव नहीं है।

इसलिए सरकार को विद्यार्थियों को पढ़ाने के लिए टीवी चैनल शुरू करना चाहिए। पाटील ने कहा कि ऑनलाइन पढ़ाई के लिए बच्चों के हाथ में मोबाइल देना चिंता का विषय है।