ब्रेकिंग न्यूज :- सुक्ष्म लघु मध्यम ऊद्धोग को जानेवाले सबसिडी के कोयले की फिर अफरातफरी? पिछले साल से बंद किये खातीवाड और गुजरात कोल के डिओ पुनः हुए शुरू. कोयला अफरातफरी -1

91

ब्रेकिंग न्यूज :- सुक्ष्म लघु मध्यम ऊद्धोग को जानेवाले सबसिडी के कोयले की फिर अफरातफरी?

पिछले साल से बंद किये खातीवाड और गुजरात कोल के डिओ पुनः हुए शुरू.

कोयला अफरातफरी -1

पुरी खबर :- एक ओर जहाँ महाराष्ट्र मे सबसे जादा कोयले की खदाने चंद्रपूर जिले मे है  फिर भी  जिले के पॉवर प्लांट को कोयला सप्लाय करणे हेतू कोयला कम पड रहा है ऐसा प्रचार होता है, मगर दुसरी ओर कुछ राजनैतिक हस्तक्षेप के चलते यहाँ का कोयला महाराष्ट्र सहित कुछ राज्यों मे सबसिडी का कोयला जा रहा है और उसमें अफरातफरी करके करोडो रुपया कोल माफिया कमा रहे है। आपको बता दे ऐसा ही एक मामला सामने आया है जिससे कोयले की फिर अफरातफरी होणे की आशंका को नकारा नहीं जा सकता है.

मिली जानकारी के अनुसार चंद्रपूर जिले के कोयला खदान से कोयला सूक्ष्म मध्यम और लघु ऊद्दोग को सबसिडी के तौर पर वेकोली से दिया जाता, खास तौर पर देखा जाता है की गुजरात के कंपनी को जानेवाला कोयला ट्रक से जा रहा है वो ट्रान्सपोर्ट के लिए महंगा होता है, फिर भी गुजरात के खातीवाड कोल और गुजरात को डिओ क्यो दिया जाता है? यह सवाल सबसे महत्वपूर्ण है, मगर अंदर की बात यह है की यह कोयला गुजरात को कभी जाता ही नही है और वो कोयला पडोलि घूग्घुस परिसर मे स्थित कोयला टालो (स्टॉल) पर उतारा जाता है और खुले बाजार मे उची दरो मे बेचा जाता है।

पुर्व मुखिया ने अचानक किया था बंन्द...

  • पिछले वर्ष मार्च 2020 मे वेकोली के मुख्यालय से अचानक खातिवाड कोल को कोयला देना बंन्द कर दिया था, क्योंकि खातिवाड कोल मे जानेवाली कोयला गडियां चंद्रपूर के एक एरिया मे खडी थी और मीडिया ने इस कोयला हेराफेरी की बात उछाली थी। उस वक्त चर्चा यह थी की सब्सिडी के कोयले को गुजरात पहुचाया जाना था मगर यह कोयला पडोलि के कोल डेपो पर ही खाली कर दिया गया था इससे वेकोली प्रशासन और महाराष्ट्र स्टेट मायनिंग कॉर्पोरेशन प्रशासन पुरी तरह से हिल गया था। इसलिए इन डिओ को बंन्द करना उस वक्त के मुखिया कि मजबुरी बन गयी थी या फिर समय कि मांग थी. सुना गया था की यह कोयले की हेराफेरी के चलते महाराष्ट्र स्टेट मायनिंग कॉर्पोरेशन के अधिकार को भी वेकोली सीएमडी मुख्यालय ने समाप्त कर सुक्ष्म मध्यम और लघु ऊद्दोग को दिया जानेवाला कोयला आवंटन बंद कर दिया था।

 

कोयले की फिर अफरातफरी होने की शंका को बल मिल रहा…

  • सबसिडी के इस कौयले को जब बंद कर दिया था तो उस वक्त एप्रिल 2020 को लॉकडाऊन के चलते यह मामला पुरी तरह से दब गया था और आनेवाले समय मे अब विवादित कंपनी को सबसिडी का कोयला देना बंद होगा ऐसा लगता था। परंतु अब एक साल के बाद फिर खातिवाड कोल को कोयला आवंटन किया जा रहा है जो समज के परे है और इससे कोयले की फिर अफरातफरी होने की शंका को बल मिल रहा है. कहा जा रहा है की सीएमडी मुख्यालय से उस समय के यह सब्सिडी के डि ओ को मुख्यालय से आदेश जारी कर रोक दिया गया था, पर आज फिर समय कि मांग या फिर कोयला व्यापारियों कि साठगांठ के चलते खातीवाड और गुजरात को एड कुक के सब्सिडी के डिओ को पुनः जारी (चालु) कर, कोल वासरीस के माध्यम से गुजरात पहुचाया जा रहा है? या फिर खुले बाजार मे बेचा जा रहा है? इस कोयले की अफरातफरी मे परदे के पिछे कि भुमिका मन कौन है? वो डिओ लेनेवाले और व्यापारी कौन है? यहा तक की वे कोश अधिकारी है? जो इसमें शामिल है इसका पर्दाफाश आनेवाले समय मे होनेवाला है जो अब संदेह के घेरे मे है.