हनी ट्रैप : आरोपियों ने 10 लोगों को लूटा

33
हनी ट्रैप : आरोपियों ने 10 लोगों को लूटा
अभियंता से 10 लाख की फिरौती मांगने का मामला
 
 
चंद्रपुर/महाराष्ट्र

दि .01 फरवरी 2024

रिपोर्टर :- रमाकांत यादव जिल्हा प्रतिनिधि ग्लोबल महाराष्ट्र न्यूज नेटवर्क
 
 पूरी खबर:-गड़चिरोली सरकारी अभियंता को नागपुर में हनी ट्रैप में फंसाकर 10 लाख की फिरौती मांगने के मामले में युवती, पोर्टल के पत्रकार, पुलिस कर्मी समेत 4 आरोपियों को पुलिस ने नागपुर में पकड़ा है. इस मामले से जिले में खलबली मच गई, चारों आरोपी 5 फरवरी तक पीसीआर में हैं. गंभीरता से लेकर पुलिस द्वारा की गई जांच में फिरौती मांगने वालों का बड़ा गिरोह सक्रिय है. गिरोह से 8 से 10 लोगों को जाल में फांसने की जानकारी सामने आ रही है. वहीं फिरौती मांगने वाले 15 पत्रकार व फोटोग्राफर जिला पुलिस के रडार पर हैं. अभियंता को हनी ट्रैप में फंसाकर फिरौती मांगने के मामले में पोर्टल के पत्रकार, पुलिस सिपाही सुशील गवई, रोहित अहीर व ईशानी इन चारों को एलसीबी ने नागपुर में जाल बिछाकर हिरासत में लिया था. वहीं 1 महिला आरोपी फरार होने में सफल रही. आरोपियों को गिरफ्तार कर 5 फरवरी तक पुलिस हिरासत में रखा गया है. वहीं इधर जिला पुलिस अधीक्षक नीलोत्पल के मार्गदर्शन में गड़चिरोली पुलिस थाने के थानेदार अरुण फेगडे मामले की जांच कर रहे हैं. गंभीरता से की जा रही जांच में पैसे वसूलने के मामले में एक गिरोह सक्रिय होकर इस टोली द्वारा अब तक 8-10 नागरिकों को जाल में फांसकर फिरौती वसूले जाने की जानकारी मिली है.
नागपुर में होगी दोबारा जांच टोली का पर्दाफाश करने के लिये गड़चिरोली पुलिस जल्द ही सभी आरोपियों को नागपुर में ले जाकर दोबारा जांच करेगी. आरोपियों के मोबाइल हिरासत में लेने पर खलबली मचा देने वाली जानकारी सामने आयी है. जिससे आरोपियों के घर समेत शिकायकर्ता अभियंता जिस होटल में रूका था, वहां भी जांच की जाएगी. आरोपियों द्वारा उपयोग की गई कार पुलिस ने जब्त किया है. साथीदार के साथ हनीट्रैप में फंसाए अभियंता का आडियो क्लिप सामने लाकर उक्त क्लिप नागपुर व गड़चिरोली के पुलिस अधिकारियों तक पहुंचने की जानकारी है. हनीट्रैप मामले में नागपुर की अनेक बड़ी मछलियां फंसने की संभावना है. टोली का पर्दाफाश करने और आरोपियों की विस्तृत जांच करने गड़चिरोली पुलिस ने लंबा पीसीआर न्यायालय से मंजूर करवाया है. अब तक की गई जांच में जिला पुलिस अधीक्षक नीलोत्पल के मार्गदर्शन में पथक के हाथ सबूत लगने की जानकारी है.