बल्लारपुर शास्त्री कोयला खदान प्रबंधन के खिलाफ रोष

43
बल्लारपुर शास्त्री कोयला खदान प्रबंधन के खिलाफ रोष
चंद्रपुर/महाराष्ट्र

दि .08 जून 2024

रिपोर्टर :- रमाकांत यादव जिल्हा प्रतिनिधि ग्लोबल महाराष्ट्र न्यूज नेटवर्क
 
पूरी खबर:-आए दिन बल्लारपुर के शास्त्री ओपन कास्ट की चर्चा सुर्ख़ियों में रही है वेकोलि के बल्लारपुर क्षेत्र में सास्ती ओपन कास्ट कोयला खदान में प्रबंधन श्रमिकों और ठेका श्रमिकों को नियमित और सुरक्षा संबंधी सुविधाएं नहीं दे रहा है, बल्कि मनमाने निर्णय लेकर श्रमिकों को परेशान कर रहा है. इन अन्यायपूर्ण नीतियों के खिलाफ श्रमिकों में तीव्र असंतोष है और इस अन्याय के खिलाफ सास्ती खुली कोयला खदान के सभी 4 ट्रेड यूनियनों यानी आईटीएके, एचएमएम, बीएमएस और इंटक ने आंदोलन का हथियार उठा लिया है. एक जून से द्वार सभा व आंदोलन चल रहा है और उसके बाद उपक्षेत्रीय प्रबंधक कार्यालय के समक्ष धरना आंदोलन किया जायेगा. इस बीच चारों ट्रेड यूनियनों ने जायज मांगें पूरी नहीं होने पर उग्र आंदोलन करने की चेतावनी दी है. कोयला खदान क्षेत्र में बड़ी मात्रा में मिट्टी और कोयले की धूल उड़ने के कारण प्रदूषण होता है, इसे तुरंत रोका जाना चाहिए. खदान में सुरक्षा नियमों का पालन किया जाना चाहिए. खदान में आराम के लिए शेड, ठंडा और साफ पानी उपलब्ध कराया जाना चाहिए खदानों में काम करने वाले सभी श्रमिकों के कार्य स्थल पर पानी की बोतल और दुपट्टा उपलब्ध कराया जाए. श्रमिकों को हर साल की तरह इस वर्ष भी पानी की बोतल और दुपट्टा उपलब्ध कराया जाए. सभी अनुबंध कर्मियों की बायोमेट्रिक उपस्थिति सुनिश्चित की जाए आदि मांगों को लेकर यह आंदोलन किया जा रहा है. बैठक रही बेनतीजा श्रमिक संघ द्वारा दिए गए विरोध नोटिस पर 6 जून को सास्ती प्रबंधन ने एक बैठक बुलाई थी, लेकिन उस बैठक में प्रबंधक संगठन के प्रतिनिधियों की कोई बात सुने बिना ही बैठक छोड़कर चले गए, जिससे श्रमिकों में तीव्र असंतोष व्याप्त है. शुक्रवार को द्वार सभा में एचएमएस के अशोक चिवंडे, रंगराव कुलसंगे, विजय कांकटे, सुधाकर घुबड़े, सूरज, आर. आर. यादव, एआईटीके के दिलीप कंकुलवार, आर.एम. जुपका, दिनेश जावरे, सत्तूर तिरूपति, बीएमएस के गणेश पिसे, पांडुरंग शामिल हुए, इंटक के संतोष गटलेवार दिनकर वैद्य, अनंत इकड़े आदि उपस्थित थे.