काले कोयले की सफेद कहानीया : भाग 1 काले कोयले का सफेद पोशो के काले कारनामे, कोयले से बन रही धन्ना सेठों की सफेद कोठियां.!

30

काले कोयले की सफेद कहानीया : भाग 1

काले कोयले का सफेद पोशो के काले कारनामे, कोयले से बन रही धन्ना सेठों की सफेद कोठियां.!

चंद्रपुर/महाराष्ट्र
दि 18 जनवरी 2023
रिपोर्ट:- जिला संवाददाता

पुरी खबर:-   चंद्रपुर जिले में धरती के गर्भ में स्थित खनिज संपदा की भरमार है जिसमें सबसे पहला अधिकार राज्य सरकार वही राष्ट्रीय संम्पदा कोयले में केन्द्र सरकार को स्वामीत्व प्राप्त है वह अपने संम्पदा का उपयोग राष्ट्र के विकास के लिए करते हैं।

बाजार में गया था जाने क्या सोचकर,
खुद को खरीद लाया, खुद ही को बेचकर

चंद्रपुर जिले की धरती के गर्भ से निकलने वाले कोयले का अधिकार प्राप्त केंद्र सरकार अपनी ही राष्ट्रीय संपदा कोयले की हो रही लूट से अनजान दिखाई पड़ रही है? यह कोयले की लूट कई दशकों से होती चली आई है सफेद पोश नेता हो, या फिर चंद्रपुर, नागपुर या अन्य राज्य में बैठे धन्ना सेठ का आज तक कोयले की लूट से पेट नहीं भरा है? यह लोग पीढ़ी दर पीढ़ी कोयले से काली कमाई कर बड़ी-बड़ी सफेद कोठिया बनवाई हुई है..!! और उन्हीं कोठियों में नए-नए कारनामों की रचना करने में लग जाते हैं, उन्हीं कोठियों में उस गरीब ईमानदारी से जीने और अपने सिद्धांतों पर अडिग गरीब व्यक्ति को नौकर रख उसका मजाक बनाया जाता है.

यही धन्ना सेठ ने भगवान का भी कमीशन फिक्स कर रखा है और भक्ति के बड़े-बड़े कार्यक्रमों को करवा कर अपने किए गए कृतियों को छुपाने की नाकाम कोशिश करते रहते हैं.

राष्ट्रीय संपत्ति के रक्षकों की भूमिका अकल्पनीय?

राष्ट्रीय संपत्ति कोयले को लूट रहे धन्ना सेठो के जेब में रहते हैं, राष्ट्रीय संपत्ति के रक्षक? यह अशोभनीय कार्य बड़ी ही सभ्यता से किया जाता है कोयले के काले कारनामों के शिल्पकारो को अमृत्व का वरदान देती राष्ट्रीय संपत्ति कोयले की रक्षा प्रणाली? वहीं लूट में शामिल रक्षकों की भूमिका का अकल्पनीय कार्य बड़ी ही निष्ठा के साथ किया जा रहा है जिले के हर ओर राष्ट्रीय संपत्ति कोयले बड़े बड़े पहाड़ निकम्मी व्यवस्था पर हंसते दिखाई पड़ रहे हैं।

किसी ने खूब कहा है!

बाजार का करिश्मा तो देखो, चीजों को खरीदने में इंसान बिक रहा है?