ग्रा. पं.उर्जानगर ने धन का किया दुरपयोग, 5 लाख की बंद एल ई डी स्क्रीन पर लगाया अपना फ़ोटो वाला बैनर..!

20

ग्रा. पं.उर्जानगर ने धन का किया दुरपयोग, 5 लाख की बंद एल ई डी स्क्रीन पर लगाया अपना फ़ोटो वाला बैनर

चंद्रपुर/महाराष्ट्र
दि: 24 अगस्त 2022

रिपोर्ट दुर्गापुर सवांददाता-

पुरी खबर:-  ग्राम पंचायत उर्जानगर के भवन पर प्रचार प्रसार के व्यवसाय के उद्देश्य से एक वर्ष पूर्व लगाये गए एल ई डी स्क्रीन पिछले कई सप्ताह से बंद है। बंद पड़े एल ई डी स्क्रीन को सुधार करने  के बजाय उसपर सरपंच, सचिव व सदस्यों का बैनर चिपका दिया गया है। ज्ञात हो कि पिछले वर्ष ही जनता के टैक्स के पैसे से 2 लाख 98 हजार रुपये के बड़ा साइज का एल ई डी खरीदा गया था, साथ ही एल ई डी स्क्रीन को ग्राम पंचायत के भवन पर लगाने के लिए डेढ़ लाख रुपये का स्टैंड के नाम पर खर्च किया गया। एल ई डी स्क्रीन नियमित चले इसके लिए 45 हजार रुपये के टैब लगाए गए। बिना मतलब के, जिसमें जनता के कोई लाभ के जनता के टैक्स का कुल 4 लाख 93 हजार रुपये खर्च कर दिया गया, जबकि बिगड़ने पर उसे सुधारने के बजाय ग्राम पंचायत के महानुभावों ने अपने अपने फोटो चिपका कर रख दिया है।
एल ई डी स्क्रीन खरीदने के 6 महीने के अंतराल में ही खराब हो गया था। तब वारंटी पीरियड में रहने के कारण एल ई डी कंपनी वाले ने सुधार दिया था। अब जबकि वारंटी पीरियड समाप्त हो गया है। ऐसे में एल ई डी स्क्रीन कब, कौन बनायेगा? कौन से फंड से बनाया जाएगा? ऐसे कई सवाल खड़े हो गए है।


मच्छर रोकथाम के लिए पैसे नहीं

  •    एक तरफ नाली में जहाँ कुडा जमा है और रोड पर गड्डो की कतारे है जिसे सुधारने का कोई प्रयास नहीं किये जा रहि है?, वहीं पांच लाख रुपये बिना मतलब के शो पीस पर यु ही खर्च कर दिया गया। इसका जिम्मेदार कौन है ? मकान व खाली प्लॉट मालिकों से एक तरफ हजारों रुपये टैक्स लिए जा रहे है तो दूसरी तरफ उस गरीब से लिया गया टैक्स की रक्कम को नाली में कीटनाशक दवा छिड़काव में खर्च करने के बजाय ग्राम पंचायत उर्जानगर ने अपने चेहरे चमकाने में खर्च कर रही है। पिछले दो महीने से बारिश हो रहा है,परन्तु कीटनाशक दवाओं छिड़काव का कोई अता-पता नहीं। गाँव वासी एक तरफ सवाल उठा रहे है तो दूसरी तरफ एल ई डी पर बैनर लगाने पर हंस भी रहे हैं। ऊर्जानगर ग्रामपंचायत के कार्यपद्धति पर अनेकों सवाल उठ रहे हैं, जिसका जवाब किसी के पास नहीं है।