महाराष्‍ट्र में कोरोना संबंधी सभी प्रतिबंध हटा..!

27

महाराष्‍ट्र में कोरोना संबंधी सभी प्रतिबंध हटा..!

दि. 31 मार्च 2022

महाराष्ट्र

पुरी खबर:👉महाराष्‍ट्र में कोरोना संबंधी सभी प्रतिबंध हटा लिए गये हैं। अब राज्‍य में मास्‍क पहनना जरूरी नहीं होगा। महाराष्ट्र में अब तक 14 जिलों के 70 प्रतिशत लोगों को ही वैक्सीन की दोनों डोज़ दी गयी है। जबकि 90 प्रतिशत लोगों को कोरोना वैक्सीन की एक डोज़ लगी हुई है। इन आंकड़ों को देखते हुए सरकार अब नागरिकों पर लगाये गए कोरोना प्रतिबंधों में ढील दे रही है।

गुरुवार को हुई कैब‍िनेट की बैठक में ये फैसला लिया गया। स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने संवाददाताओं को बताया कि मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट की बैठक में यह निर्णय लिया गया। टोपे ने कहा क‍ि गुढ़ी पड़वा (मराठी नव वर्ष जो इस बार 2 अप्रैल को पड़ता है) से महामारी रोग अधिनियम और आपदा प्रबंधन अधिनियम के तहत सभी COVID-19 संबंधित प्रतिबंध वापस ले लिए जाएंगे। उन्होंने कहा कि 2 अप्रैल से फेस मास्क पहनना स्वैच्छिक होगा।

हालांक‍ि एक दिन पहले बुधवार को महाराष्‍ट्र के स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री राजेश टोपे ने कहा था क‍ि अन्‍य देशों में कोरोना की चौथी लहर की आशंका है। ऐसे में मास्‍क हटाने का फैसला नहीं लिया जाएगा। जनह‍ित में मास्‍क लगाना जरूरी होगा। उन्‍होंने कहा क‍ि राज्‍य सरकार मास्‍क के पक्ष में है। हालांक‍ि एक दिन ये फैसला बदल गया।

महाराष्ट्र में 70% डबल डोज़ वैक्सीनेशन

महाराष्ट्र में अब तक 14 जिलों के 70 प्रतिशत लोगों को ही वैक्सीन की दोनों डोज़ दी गयी है। जबकि 90 प्रतिशत लोगों को कोरोना वैक्सीन की एक डोज़ लगी हुई है। इन आंकड़ों को देखते हुए सरकार अब नागरिकों पर लगाये गए कोरोना प्रतिबंधों में ढील दे रही है। मंगलवार को आपदा प्रबंधन अथॉरिटी की स्टेट एग्जीक्यूटिव कमिटी के सदस्यों की चीफ सेक्रेटरी की अध्यक्षता में एक बैठक हुई थी। जिसमें यह फैसला लिया गया। राजेश टोपे ने कहा कि आने वाले गुड़ी पाड़वा पर जुलूस ना निकाले और सोशल डिस्टनसिंग का पालन करें।

ये नियम रहेंगे शुरू
कोरोना महामारी को देखते हुए एपिडेमिक एक्ट 1897 के तहत दवाओं के दाम निर्धारित करने और अस्पतालों में तय कीमतों पर इलाज जैसे नियमों को लागू किया गया था। यह नियम आने वाले दिनों में भी लागू रहेंगे। स्टेट एग्जीक्यूटिव कमेटी के सदस्यों ने कहा कि भले ही कोरोना के मामले घटने की वजह से कोरोना सबंधी प्रतिबंधों में ढील दी जा रही है लेकिन मामलों में बढ़ोतरी देखी जाएगी तो यह प्रतिबंध फिर से लागू किये जायेंगे।

सौजन्य नवभारत टाईम्स