वेकोली जीओसी खदान परीसर मे टॅकटर और ट्रेलर कि भीषन अपघात, स्थानीय नागरिकों ने 4,5 घंटे रास्ता रोका..

56
वेकोली जीओसी खदान परीसर मे टॅकटर और ट्रेलर कि भीषन अपघात, स्थानीय नागरिकों ने 4,5 घंटे रास्ता रोका..

चंन्द्रपुर/महाराष्ट्र
दि. 12 दिसंबर 2021
संवाददाता: हनिफ शेख

पुरी खबर घुग्घुस: वेकोली वणी क्षेत्र के जीओसी बंद खदान परीसर मे बैरनबाबा मंदिर के पिछे खदान के अंदर से बनाए गए नए बायपास मार्ग पर ट्रेलर और टॅकटर भीडत मे टॅकटर चालक और लेबर कि घटणा स्थल पर मौत हो गई। दुर्घटना मे एक लेबर कि हालत चिताजनक बताई जा रही है।घटणा शनिवार दुपहर 3 बजे कि है। घटणा मे बताया जाता है कि दुपहर 3 बजे टॅकटर क्र एम,एच,34 एपी 0508 खदान के अंदर मॅग्झीन बांधकाम मे गिट्टी खाली करके नए बायपास मार्ग से चिचोली घाट मे  रेती भरने के लिए जा रही थी कि रास्ते बीच बैरनबाबा मंदिर के पिछे वेकोली के नए बायपास मार्ग पर ट्रेलर ने टॅकटर को जोरदार टक्कर मार दी अपघात इतना भीषणा था कि टॅकटर का मुंडा और ट्राली अलग हो गई भीषणु दुर्घटना मे टॅकटर चालक मनोज शंकर राय (25) और लेबर रूपेश बारसागडे (30) कि घटणा स्थल पर ही मौत हो गई अन्य एक लेबर कि हालत चिताजनक बताई जा रही है। जिसे उपचार के लिए तुरंत चंद्रपुर सरकारी अस्पताल मे रेफर किया गया था। ट्रक क्र एम एच 34 एबी 9362 चड्ढा ट्रांसपोर्ट कंपनी कि है। क्षेत्र मे भयानक दुर्घटना के होने से काफी देर तक तनाव बना रहा तनाव कि स्थिति को देखकर चंद्रपुर से दंगानियंत्रन बल बुलानी पडी

घुग्घुस पुलिस ने घटना स्थल मे पहुचकर दुर्घटना का मामला दर्ज किया। मृतक के परीजनो ने मुआवजा कि मांग कि लिए काफी देर तक अडे रहे। बताया जाता है कि जल्द बाजी मे वेकोली प्रशासन ने खदान के भीतर से इतना भयानक नवनिर्मित कच्चा मार्ग का निर्माण कीया मार्ग पर धुल के उड़ने से रास्ता भी साफ नही दिखाई देता है मार्ग के किनारे खदान कि खाई मे दुर्घटना होंने कि संभावना हमेशा बनी रहेती है नवनिर्मित बायबास मार्ग पर कुछ हि महिनों दुसरी घटणा हो चुकी है इस जानलेवा मार्ग पर कभी भी बडी दुर्घटना हो सकती है। मार्ग पर कोई सुरक्षा का पहरेदार और पाणी का छिड़काव भी नही होता। मार्ग पर भीषण दुर्घटना मे मृतक के परीजन और राजकीय पक्ष के सभी नेता एकत्रित होकर मॄतक के परिवार वालो को दस लाख प्रति व्यक्ति को मुआवजा कि मांग के लिए तक़रीबन पांच घंटे तक ट्रांसपोर्ट मालीक को मनवाने के लिए अडे रहे लेकिन ट्रांसपोर्ट मालीक नही मान रहा था। दुर्घटना के कुछ देर बाद तनाव कि स्थिति बन गई, तनाव पुर्व स्थिति को नियंत्रित करने के लिए चंद्रपुर से दंगा नियंञन बल बुलानी पडी कुछ देर बाद  घुग्घुस पुलिस थाना मे चंद्रपुर के पुलिस अधीक्षक और ट्रांसपोर्ट मालीक भी पहुचे ट्रक मालीक ने मृतक मे प्रति व्यक्ति को साढे पंधरा लाख रू देने के लिए मंजुर हुए मुआवजा और आश्वासन के बाद घटणा स्थल से डेड बाडी उठाई गई। घुग्घुस पुलिस ने पंचनामा कर मृतक कि लाश को पोस्टमार्टम के लिए चंद्रपुर सरकारी अस्पताल मे भेजा गया। आगे कि जांच घुग्घुस पुलिस कर रही है.