दुर्घटना को आमंत्रण देती WCL वसाहत (क्वार्टर) जर्जर अवस्था में होने के बावजूद अधिकारियों की अनदेखी, वसाहत में रह रहे कर्मीयों दहसत में जिने को मजबुर, कई बार निवेदन देने के बावजूद वेकोली प्रसासन नींद से नही जाग रहा,

619

चन्द्रपुर/महाराष्ट्र
दि. 16 जुन 2021
रिपोर्ट :- हनिफ शेख संवाददाता

पुरी खबर घुग्घुस:- वेकोली वणी क्षेत्र के सुभाष नगर, गांधी नगर, इंदिरा नगर, राम नगर, काॅलनी मे बने हुए तीस से पैतीस वर्ष बीत चुके, जिसके कारण से अब क्वार्टर कि अवस्था पुरी तरह से खराब हो चुकी है। काॅलनी की छत पुरी तरह से जर्जर हो चुकी है, जिससे छत गीरने टुटने से किसी भी वक्त बड़ी दुर्घटना हो सकती है। कई बार निवेदन देने के बावजूद, वेकोली प्रसासन वेकोली प्रशासन कुम्भकरणी नींद से नही जाग रहा, वेकोली कंपनी मे कार्यरत कर्मी द्वारा, कंपनी की प्रगति के लिए जिजान से मेहनत करते हैं वहीं कंपनी के द्वारा अनदेखी करने पर उन्हें जर्जर अवस्था की वसाहत में रहने पर मजबुर होना पड़ रहा है। कर्मीयों को वसाहत मे नाली कि सफाई, जर्जर मकान कि मरम्मत, खराब रास्ते, पाणी कि भरपूर सुविधा नही होने से वसाहत (क्वार्टर) मे रहने वाले कामगार असुरक्षित महसूस कर रहे है। बरसात का मौसम सुरू होते ही काॅलनी के जर्जर क्वार्टर की छत गीरना, पाणी टपकना, नालो का मलबा लबलता दिखाई पड़ता है , रास्ते मे गड्डे होने से बरसात का पानी जमा होना, जंगली पौधों से डेगु मेलेरीया के मंछरो से कर्मीयों का और उनके परिवार के स्वास्थ्य की भी समस्या पैदा हो गई है।

ऐसी कई समस्याओं के कारण अब कामगार वसाहत मे अपने आप को असुरक्षित महसूस कर रहे हैं। कुछ दिन पुर्व हुए हादसे में किसी की जान हानी नहीं हुई, पर आर्थिक नुक्सान कर्मी को सहन करना पड़ा है। अधिकारियों ने मुआयना कर आस्वासन दे अपना पल्ला झाड़ लिया है और कर्मी अभी तक नुकसान के भरपाई का राह तक रहा है।

सुभाष नगर काॅलनी मे पिछले दो महीनो से एक के बाद एक लगातार छत गीरने का हादसा हो चुका है लेकिन इस हादसे मे किस्मत से कामगार कि जान तो बच गई, लेकिन बाहर रखी गाडी और समान मल्बे मे दबने से कामगारो का बडा नुकसान हुआ अभी तक हादसे मे नुकसान कि भरपाई देनेवाले संबंधित अधिकारी आश्वासन देकर भुला गए, और मरम्मत कार्य को भी आधा अधुरा छोड दिया है जिसके कारण टुटे गॅलरी मे ग्रील नही लगने से बच्चे के गीरने जैसे बडे हादसे को आमंत्रण देते दिखाई दे रहा है। आज वेकोली कर्मी अपने आप को असहाय महसूस कर रहे हैं।