उकणी घाट से हजारो ब्रास रेती चोरी, कार्यवाही की राह तकते गांव के नागरिक

237

उकणी घाट से हजारो ब्रास रेती चोरी, कार्यवाही की राह तकते गांव के नागरिक

चन्द्रपु/महाराष्ट्र

दि. 23 में 2021

रिपोर्ट :- हनिफ शेख संवाददाता

पुरी खबर घुग्घुस:- राज्य सरकार के निर्देश नुसार लाॅकडाउन मे मौजुद हालत “ब्रेक द चैन” स्थिती को बनाए रखने के लिए सभी शासकीय, प्रशासकीय, पुलीस प्रशासन, अधिकारी अपने-अपने काम पर व्यस्त है लाॅकडाउन मे प्रशासकीय अधिकारी, कर्मचारी, पर दीनभर मे काम का बोझ अधिक होने से रात मे थकान से बाहर नही निकल रहे हैं जिसका फायदा रेती तश्कर,शराब तश्कर को भरपूर हो रहा है दिन मे पुलीस और प्रशासकीय अधिकारी कि गस्ती बढने से अब तश्करी रात मे अधिक बढ गई है

 

यवतमाल जिले के वणी तहसिल, शिरपूर पोलिस थाना अंतर्गत वर्धा नदी उकणी घाट से रात के समय जेसीबी से ट्रैक्टर में रेत भर तश्करी धडल्ले से सुरू है। रेती तश्कर निलजई उकणी डंपीग यार्ड मार्ग से रात 11 बजे से सुबह 4 बजे तक घाट से जेसीबी के द्वारा अवैध रेत निकालकर उपर समतल जगह पर हजारो ब्रास भंडारन कर, भंडारन किए गए अवैध रेत को उकणी, बेलोरा, कोलारपिपरी, नायगाव, पुरड, पुनवट, भालर, निलजई, आदी जगह ट्रैक्टर मे लादकर ऊंचे दाम से बेचकर मालामाल हो रहे हैं।

 

वही इसी अवैध रेती कि चोरी से महसूल विभाग को करोडो का नुकसान सहना पड रहा है। महीनो चली आ रही इस अवैध रेत तश्करी से घाट मे तकरीबन पाच फिट का गड्डे का निर्माण हो गया जिसके कारण पर्यावरण के साथ साथ पशूओ की जान हानी होने कि भी धोकादायक स्थिती बन गई है। रात गाव बीच से हो रही अवैध रेत तश्करी पर लगाम कसने कि मांग नागरीको ने पुलीस प्रशासन, महसूल विभाग से कि है।  निरंतर जारी इस रेत तस्करी पर लगाम कसना अब जरूरी हो गया हैै । जिससे पर्यावरण का नुक़सान ना हो और रेत निकालने के बाद जो जमीन का जलस्तर घटता है उसके भी होने वाले नुक़सान से बचा जा सके संबंधित अधिकारियों को बार बार चेताया भी जा चुका है। पर आपदा की आड़ में कार्यवाही ना होना यहां कई तरह के संदेह उत्पन्न करता है।