निलजई-उकणी डंपीग यार्ड से रेती कि तश्करी, मध्य रात्री मे जेसीबी के द्वारा भंडारण, सुबह ट्रैक्टरों से अवैध रेत तस्करी

439

निलजई-उकणी डंपीग यार्ड से रेती कि तश्करी.

यवतमाल/महाराष्ट्र
रिपोर्ट :- हनिफ शेख संवाददाता
वणी/यवतमाल :- महाराष्ट्र राज्य मे कोरोना महामारी बीमारी के बढने से एक ओर सरकार द्वारा दिए गए आदेश “घर मे ही रहे बेवजह घर से बाहर न निकलने ” का लोग समर्थन कर रहे हैं पर कुछ जगह पर लोग सुनसान वाले मार्ग का फायदा उठाकर सरकार को करोडो की चपत लगा रहे हैं।

वणी तहसिल के शिरपूर पोलिस थाना अंतर्गत वेकोली के निलजई-उकणी से अवैध रेत तस्करी

  • वणी तहसिल के शिरपूर पोलिस थाना अंतर्गत वेकोली के निलजई-उकणी डंपीग यार्ड से मध्य रात्रि के दौरान  रेती कि अवैध तश्करी बडी माञ पर हो रही है। मध्य रात्रि के बीच रेत की तश्करी करने वाले डंपीग यार्ड के बाजु से वर्धा नदी घाट के लिए जेसीबी मशीन कि सहायता से नया मार्ग निर्माण किया है। इसी मार्ग से आधा डझन ट्रैक्टरो से रेती कि अवैध उत्खनन सुरू कर रखा है। तश्करी करनेवाले रात 11 बजे के बाद घाट से रेती निकालकर,उपर शैकडो ब्रास का भंडारन करते हैं फिर सुबह 3 बजे के  दौरान भंडारन कि गई रेती को जेसीबी मशीन से  ट्रैक्टरो मे भर निलजई, उकणी, बेलोरा, भालर, नायगाव,अदी जगह पर उचे दामो मे बेचकर राज्य सरकार का महसुल डुबो रहे है

कोरोना वायरस की चेन तोडने मे भी बाधा डाल हे

  • वही चोरी कि इस रेत से सरकार का महसूल तो डुब ही रहा है और बाधकाम मे इस रेत के इस्तेमाल से काम कर रहे ठकेदार सरकार की जारी नियमावली का भी उल्लंघन किया जा रहा है। जिससे कोरोना वायरस की चेन को तोडने मे बाधा बन रहे इन अवैध रेत तस्करों पर कार्रवाई की दरकार है।

राज्य सरकार का महसूल डुबो रहे

  • विभाग को करोडो नुकसान भी हो रहा है लाॅकडाउन मे शासन, प्रशासन के अधिकारी व्यस्त होने से इसका फायदा सीधा रेती तश्कर भरपूर उठा रहे  है। नागरीको ने रात मे गाव बीच से होने वाली अवैध रेती तश्करी को रोकने कि मांग पुलीस प्रशासन तथा महसुल विभाग से की है जिसके कारण शासन को महसूल से होनेवाला करोडो रुपये का क्षती को रोका जा सकता है।