”राजा ठाकुर” बना जिले के अवैध शराब तस्करी का राजा… परमिशन के बोल उचे शुरो के साथ नियमो की अनदेखी.. परमिसन की ग्यारंटी के साथ हर खेप बोनस वसुली..

1435

चन्द्रपुर/महाराष्ट्र

दि. १३ मई २०२१

पुरी खबर :- चंद्रपुर जिले में कोरोनावायरस के  प्रभाव से जहां जनता त्रस्त है वहीं सरकार इंतजाम करने के लिए एड़ी चोटी के साथ  हर संम्भव प्रयास रत है जिले की राजनैतिक तथा सामाजिक संस्था अपना अपना दायित्व समझते हुए सहयोग के साथ कोरोना महामारी से लड़ाई में कंधे से कंधा मिलाकर खड़े हुए जनप्रतिनिधि तथा सामाजिक कार्यकर्ता जनता की स्वास्थ्य की सुरक्षा के  हर संभव प्रयास में जुटे हैं।

वहीं चंद्रपुर जिले में शराबबंदी बंन्दी होने के बावजूद अवैध शराब से भरे वाहनों का जिले की सिमाओं में आसानी से प्रवेश प्रसासन की नाकामी का प्रमाण है।

सुत्रो से मिली जानकारी के अनुसार परमीशन प्राप्त राजा ठाकुर के पिछे के किरदारों के ऊंचे स्वरों में बोले गए बोल प्रसारण की ओर इशारा करते हैं। कहा तो यह भी जाता है की राजनि…क दखल  से जिले की सीमा में प्रवेश करती अवैध शराब की खेप में हिस्सेदारी और संबंधित चौकी मे हर खेप पर बोनस का चढ़ावा अवैध शराब तस्करों गुप्ता बंधुओं का शह प्रदान करता दिखाई दे रहा है। राज्यों की सीमाओं को पार कर जिले में जांच एजेंसियों की नाक के नीचे से चंद्रपुर की सीमा में प्रवेश अवैध शराब तस्करों के बड़े-बड़े ट्रक क्या प्रमाणीत करते हैं?

जानकारी के मुताबिक राजा ठाकुर नामक व्यक्ति को चंद्रपुर शहर की शराब तस्करी की कमान दी गई है?

कमान देने के पीछे किसका आशीर्वाद है?… यह समझ के परे है पर फिर भी कोरोना महामारी के दौरान यह अवैध शराब की खेप, हर दुसरे दिन में शहर की सीमा के अंदर प्रवेश कर अंधेरों में पेटियों का बंटवारा कर उड़न छू हो जाना।

अवैध शराब तस्कर ऊंचे स्वर में परमिशन की ललकार  ”परमिशन मिली है” अब देखने योग्य है कि परमिशन मिली है तो कहां से मिली है?
किसने दी है? और किस बात की परमिशन? अवैध शराब बिक्री की परमिशन की ललकार भर रहे अवैध शराब तस्कर पर कारवाई का दिखावा और धीमी रफ्तार अंकुशता की ओर जाती दिखाई देती है या नहीं?