शराब कि दुकान मे उड रही नियमो की धज्जीया, महाराष्ट्र दिन के अवसर पर भी खुलि रही शराब की दुकानें

433

शराब कि दुकान मे उड रही नियमो की धज्जीया, महाराष्ट्र दिन के अवसर पर भी खुलि रही
शराब की दुकानें                                     

यवतमाल /महाराष्ट्र                                                   
रिपोर्ट:- हनिफ शेख संवाददाता

घुग्घुस: पुरे राज्य समेत जिले भर मे कोरोना महामारी कि दुसरी लहर का प्रकोप जारी होने से बिमारी से मरने वालो कि संख्या आज लगातार बढ रही है ऐसे मे राज्य सरकार ने इस श्रृंखला को तोडने के लिए 15 मई तक जनता कर्फयु का निर्णय लिया है। इस लाॅकडाउन मे कुछ जीवनावश्यक सेवाओ, दुकानदारो को कडे निर्देश भी दिये गए है लेकिन कोरोना महामारी कि इस दौर मे जहा कोरोना लोगो कि सांसे पल पल छीन रहा है वही कुछ लोग आपदा को अवसर मे बदल ऐसे भयावह स्धिती मे भी अपने करतुतो से बाज नही आ रहे हैं

एक मई महाराष्ट्र दिन अवकाश पर भी शिरपूर पोलिस थाना अंतर्गत कैलाश नगर माथोली मे शराब कि देशी/विदेशी दुकान खुलते हुए दिखाई दी

बात एक मई महाराष्ट्र दिन अवकाश पर भी यवतमाल जिले के वणी तालुका मे शिरपूर पोलिस थाना अंतर्गत कैलाश नगर माथोली मे शराब कि देशी/विदेशी दुकान खुलते हुए दिखाई दी है दुकान मे शराब पीनेवाले और तश्करी करने वाले कि भीड उमड पडी, जहां पर सरकार कि दी गई नियमावली कि खुलेआम धज्जीया उडाई जा रही है शराब लेने के लिए कतार मे लगे लोगो मे मास्क, सोशल डिस्टेसिग, जैसे नियमो का पालन नहीं किया जा रहा है जिसके कारण बिमारी और बढ रही है महामारी मे जनता कर्फयु मे भी घुग्घुस सीमा से सटे यवतमाल जिल्हा के कैलाश नगर (माथोली) से शराब कि तश्करी बडी माञा पर हो रही है लाॅकडाउन मे शराब कि पूर्ती पुरी न होने से शराब दो गुणां दाम मे घुग्घुस क्षेत्र के अंदर बेची जा रही है.


ALSO READ– निलजई कोल का झोल.. वणी मे लाल पुलिया के प्लाटो पर खाली हुये कोयले से भरे निरजई अफरा-तफरी के ट्रक?


भट्टीं बंद होने से कैलास नगर माथोली से राजु अन्ना, गुरूदत्ता,शराब कि तश्करी

यवतमाल के वणी भालर कि शराब भट्टीं बंद होने से कैलास नगर माथोली से राजु अन्ना, गुरूदत्ता, दुकान से देशी विदेशी शराब कि तश्करी बडे पैमाने पर है सीमा पर बैठी पुलीस कि सुरक्षा चौकी सिर्फ सफेद हाथी साबीत है इस कोरोना महामारी परीस्थिती मे भी शराब कि दुकान मे शराब पीने वाले और तश्करी करने वाले कि भीड ने जिल्हा प्रशासन के कानुन कि सरेआम धज्जीया उडाई जा रही है जिन्हे रोकने मे पुलिस प्रशासन नाकाम होता दिखाई दे रहा है।