निलजई खदान कोयला हेराफेरी प्रकरण के तिसरे ट्रक मालिक क्या हुआ ? कोयला राष्ट्रीय संपत्ति की लुट का अजब किस्सा !

925

कोयला राष्ट्रीय संपत्ति की लुट का अजब किस्सा !

यवतमाल/महाराष्ट्र

दि.११ अप्रैल २०२१

यवतमाळ : नीलजई खदान के कोयला अफरातफर प्रकरण मे पकडे गये सात अपराधीयो को न्यायालय से जमानत मिलने की खबर है. इस कोयला हेराफेरी प्रकरण में वणी पुलिस द्वारा पकड़े गए तीन ट्रको में से एक ट्रक कुबेर वर्मा के नाम पर और दूसरा ट्रक आफताब के नाम पर रजिस्टर है. लेकिन तिसरा ट्रक क्र. Mh34 AM-0992 Online न होने की वजह से ट्रक मालिक के नाम की जानकारी वणी पुलिस के पास काफी समय तक नहीं थी?

निलजई खदान कोयला हेराफेरी प्रकरण के तिसरे ट्रक मालिक क्या हुआ ?

  • हमारी समाचार संस्था द्वारा अधिक जानकारी निकालाने के बाद यह ट्रक चंद्रपूर जिले के घुग्घूस तहसिल के म्हातारदेवी स्थित मोवीन शेख के नाम रजिस्टर होने की जानकारी मिली है. पुलिस की जांच में अब तक क्या निकलकर सामने आया है? इसकी जानकारी देने में वणी पुलिस आनाकानी कर रही है.
  • सबसे महत्व की बात यह है की इस प्रकरण के अपराधी कुबेर वर्मा द्वारा संचालित वंदना ट्रान्सपोर्ट कंपनी का मुख्य कार्यालय घुग्घूस में ही है. इसको मद्देनजर रखते हूऐ निलजई कोयला हेराफेरी प्रकरण की तार घुग्घूस से भी जुडे होने के आसार नजर आ रहे है, जिससे इस हेराफेरी की उच्चस्तरीय जॉच होना जरूरी है.

यवतमाल जिले के वणी में दिनांक 18 मार्च 2021 को निलजई खदान से भरे गए कोयले के तीन ट्रको को वणी पुलिस द्वारा पकड़े जाने के बाद निलजई खदान से प्राईड मेंटल कंपनी के अफरा-तफरी के प्रकरण का खुलासा हुआ था। जिसमें उन तीनों ही ट्रकों में पुलिस ने 75 टन कोयला जप्त किया। डब्लूसीएल खादान से निकले प्राइड मेटल के डीओ के बाकी के लगभग 93 गाड़ियों का कोयला कहा और किन प्लाटों पर पहुंचा उन प्लाट मालिकों तक जांच एजेंसीया पहुंच पायेगी? यह सवाल ज्यों का त्यों बना हुआ है।

 

राष्ट्रीय संपत्ति की लुट में लिप्त मुखियाओं को धर जेल की हवा खिलाने में पुलिस को कामयाबी हासिल होती है? या फिर “वही ढांक के तिनं पत्तो” वाला किस्सा रहेगा यह आनेवाला वक्त जरूर बतायेंगा.