मामूली विवाद से दो गुटों में हिंसक झड़प, चलि तलवार चाकू, युद्ध क्षेत्र में बदला परिसर

1611

चंद्रपुर / महाराष्ट्र

चंद्रपुर दिनांक 20 फरवरी 2021 को चंद्रपुर शहर के बगड़ खिड़की परिसर में रात 8:30 के दरमियान दो गुटों में हिंसक झड़प हो गए।

पूरी घटना: – चन्द्रपुर के बगड़ परिसर में रहने वाले आसिफ यासीन बेग अपने भाई के साथ दुपहिया वाहन से आ रहे थे, आते समय अरबी मदरसे के समीप बगड़ खिड़की परिसर में ही रहने वाले वसीम उर्फ ​​(कालू) अपने दोस्त के साथ कहीं जा रहे हैं। थे। इसी तरह दोनों वाहनों में भिड़ंत हो गई, जिसके पश्चात आसिफ और वसीम उर्फ ​​(कालू) में वाद-विवाद गाली गलौज होने लगी, इस बीच किसी ने बीच-बचाव कर मामले को शांत किया।

कुछ समय बाद फिर विवाद खड़ा हो गया। मामला यहीं नहीं रुका कुछ समय पश्चात दोनों ओर के सहयोगी ईखट्टा हो गए और मामूली विवाद हिंसक झड़प में बदल गया। दोनों ओर से आया सहयोगी योंस ने एक दूसरे के ऊपर तलवारे चाकू से हमला कर दिया। यह हमला इतना गंभीर था कि दोनों ओर से कुछ लोग गंभीर रूप से जख्मी हो गए और कुछ लोगों के जान पर बना जिसके उपरांत दोनों गुटों के लोगों को चंद्रपुर जिला सामान्य अस्पताल में दाखिल करवाया गया।

 

दोनों गुटों के लोग गंभीर रूप से जख्मी: – हिंसक झड़प में 7 लोग गंभीर रूप से जख्मी हो गए, जिसमें तीन को जिला सामान्य अस्पताल में और एक को निजी सीएचएल अस्पताल में दाखिल कराया गया।

घटना पर पहुंची पुलिस ने तत्काल कार्रवाई की: – घटना की जानकारी प्राप्त होते ही रामनगर पुलिस ने स्थिति को नियंत्रण करने के लिए तत्काल कार्रवाई कर, दोनों गुटों की शिकायत के आधार पर अपराध दर्ज किया।

आसिफ की शिकायत के आधार पर वसीम उर्फ ​​(कालू) मालू, आसिफ, नदीम, नवीनम, मज्जु के ऊपर आईपीसी की धारा 307, 324, 142,147, 148,149 और 341 के तहत मामले दर्ज कर गुनहगारों को गिरफ्तार किया गया है।

इसी प्रकार दूसरे गुट के शेख नईम की शिकायत के आधार पर आसिफ शेख, फारुख शेख, शब्बीर शेख, इकबाल खान, जावेद शेख, ऐसे कुल 7 लोगों पर आईपीसी की धारा 307, 324, 148, 148, 149 के तहत अपराध दर्ज कर अपराधियों को गिरफ्तार किया गया।

रामनगर के नए थानेदार रोशन यादव : – थानेदार रोशन यादव रामनगर पुलिस स्टेशन का पद भार संभालते ही रामनगर पुलीस स्टेशन के अंतर्गत उन्हे दो गंभीर स्वरूप के अपराध का साामन करना पडा। रामनगर पोलीस स्टेशन की दारोमदार संभालना रोशन यादव को आसान नहीं है, इसके संकेत उन्हे मिल चुके हैं। पहले ही पुलीस कर्मी की कमी के कारण उन्हे मुसिबत का सामना करना पड सकता है।