पद्मापूर ओपनकास्ट दुर्घटना के दोषीयों पर होगी कारवाई ! वेकोली में कामगार असुरक्षित-कोल इंडिया सुस्त !

831

चंद्रपूर १२ फरवरी २०२१ : नई कोयला नीति विरोधी मंच के राष्ट्रीय संयोजक किशोर पोतनवार ने पत्रकार अन्वर आलम मिझा के साथ वेकोली चंद्रपूर के महाप्रबंधक माननीय आभाषचंन्द्र सिंह जी से उनके महाकाली कॉलरी स्थित कार्यालय में दिनांक १२ फरवरी २०२१ को प्रत्यक्ष मुलाकात कर वेकोली क्षेत्र में कोयला कामगारों की सुरक्षा के बारे में विस्तृत चर्चाकर चिंता जताई।

पदमापुर में हुई दुर्घटना का जिक्र:- १८ नवबंर २०२० को पद्यापूर ओपनकास्ट माईन में टीला ढह जाने से वेकोली को करीबन १०० करोड रूपयों का नुकसान हुआ है। इस हादसे में ९४२, ८१६ एवं ८९० क्रमांक की ड्रील मशीनों के अलावा विशाल पंप, मोटर, ट्रान्सफार्मर, ओसीबी मशीन समेत अनेक कीमती सामग्री मलबे के ढेर में समा गई। हादसे के बाद से पद्मापूर खदान बंद है। इसे डेंजर झोन घोषित किया गया है।

९६० कामगारों का भविष्य दांवपर :- ९६० कामगारों का भविष्य दांवपर लगा है। कामगारों को हजारों का नुकसान उठाना पड रहा है। माननीय महाप्रबंधकजी ने खेद व्यक्त करते हुये बताया कि, किसी भी कामगार संघटन ने कामगारों के भविष्य के बारे में सवाल नही उठाया। इस हादसे की इन्क्वायरी के लिये नागपूर से टीम आई थी। इन्कायरी करके चली गई लेकिन अभी तक किसी जिम्मेदार अधिकारी पर किसी प्रकार की कारवाई नही की गई है।

स्लोप स्टडी रडार नामक मशीन का उपयोग नहीं :- पदमापुर ओपनकास्ट में स्लोप स्टडी रडार नामक मशीन का उपयोग नहीं किया गया था ऐसी जानकारी प्राप्त हुई है। वेकोली में स्लोप स्टडी रडार मशीन का उपयोग ना होना गंभीर गलती मानी जानी चाहिये। इस हादसे में जान हानी का नुकसान नहीं हुआ यह गनीमत है। इसके लिये जिम्मेदार अधिकारी पर कारवाई करने की मांग किशोर पोतनवार तथा अन्वर आलम मिझाने की है।

भटाळी कोलमाईंस में स्थानीय बेरोजगारों को काम पर लेने की अपील की गई।